गौ माता के लिए 671 रुपये प्रति स्क्वेयर मीटर, उद्योगपतियों के लिए 15 रुपये प्रति स्क्वेयर मीटर

gaay maaaa

Gujju Post

अहमदाबाद : गुजरात में नेतायो के परिवार वालों,उद्योगपतियों को तकरीबन 90 फीसदी छूट पर जमीन दे दी गई है।

इस मामले के साथ बहोत सारी जमीने जो मोदी शासन में कोडियो के दाम दी गई उन सभी पे अब सवाल लग रहा है,आखिर गुजरात की जमीने सिर्फ उद्योगपति और नेतायो के करीबियों को ही क्यों दी गई ?

मोदी जी के शासन में अनार पटेल से कारोबारी ताल्लुकात रखने वालों को साल 2010 में  राज्य सरकार ने 422 एकड़ जमीन महज 15 रुपये प्रति स्क्वेयर मीटर के रेट पर दी थी।

इतना ही नहीं यह रेट उस वक्त उस इलाके में सरकार की ओर से ली जाने वाली स्टांप ड्यूटी के रेट से 91.6% कम था। उस दौरान स्टांप ड्यूटी का रेट उस इलाके में 180 रुपये प्रति स्क्वेयर मीटर था।

इसतरह की सस्ती जमीन बहोत सारे जाने माने उद्योगपतियों को भी दी गई है, जिसमें टाटा को दी गई जमीन हाल ही में चर्चा में बना हुया है.

विधानसभा में कहा गया की गाय माता की पशु सवर्धन यूनिवर्सिटी की 1100 एकर जमीन टाटा को दी गई आज वहा वर्कर भी परेसान है उनकी भी हड़ताल है और रोजगार देने के नाम पर इस तरह के उद्योगों को जमीन दी गई पर वो लोग रोजगार देने में भी नाकाम रहे है उन टाटा नेनो के लिए पानी की अलग से स्पेसियल पाइप लाइन दी गई है जब की 2000 की साल से जामनगर जिल्ले में पाईपलाइन दी गई है पर अभीतक पानी नहीं दिया और टाटा को 12 महीने बिना रुके पानी दिया जा रहा है

दूसरी ओर, मुरलीधर गो सेवा ट्रस्ट ने भी गिर रिजर्व फॉरेस्ट के पास अमरेली इलाके में ही जमीन के लिए आवेदन किया था। उन्हें

पूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए Next Button क्लिक करें
Prev1 of 3Next