विश्व की 7 अजायबी में स्थान पा चुका है दुनिया का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर दिल्ही का अक्षरधाम

akshardham5

दिल्ली का अक्षरधाम मंदिर देस की बाकी इमारतों की तरह प्राचीन नहीं है पर वह 10,000 वर्ष पुरानी भारतीय संस्कृति के प्रतीक को बहुत विस्मयकारी, सुंदर, बुद्धिमत्तापूर्ण और सुखद रूप से प्रस्तुत करता है। यह भारतीय शिल्पकला, परंपराओं और प्राचीन आध्यात्मिक संदेशों के तत्वों को शानदार ढंग से दिखाता है।

अक्षरधाम एक ज्ञानवर्धक यात्रा का ऐसा अनुभव है जो मानवता की प्रगति, खुशियों और सौहार्दता के लिए भारत की शानदार कला, मूल्यों और योगदान का वर्णन करता है। 

इमारत में कहीं भी कंक्रीट या स्टील का इस्तेमाल नहीं हुआ है. यह हजारो वर्ष पुरानी वास्तुकला से बनाया गया है 

akshardham6

दिल्ही का अक्षरधाम मंदिर दुनिया का सबसे विशाल हिन्दू मंदिर परिसर होने के लिए ‘गिनीज़ बुक ऑफ़ॅ व‌र्ल्ड रिका‌र्ड्स’ में शामिल है और 21 सदीकी विश्व की सात अजायाबी में भी स्थान पा चुका है. अमरीका की एक रिसर्च में मरने के पहेले अवश्य देखे (SeeBeforeYouDia.net) ने दुनिया के टॉप 25 स्थानों में अक्षरधाम को रखा है.

दिल्ली दर्शन के लिए आने वाले पर्यटकों में से 70 फीसदी इस मंदिर की वास्तुकला और भव्यता देखने जरूर पहुंचते हैं। कलाम साहब राष्ट्रपति के तोर पर दिल्ही में थे तब राष्ट्रपति भवन के महेमानो को अक्षरधाम देखने का विशेस आग्रह करते. हम भी दिल्ही जाए तब उनका आग्रह समझ के भी अक्षरधाम दर्शन करने जाना चाहिए.

स्वामीनारायण अक्षरधाम परिसर का निर्माण कार्य विश्व वंदनीय संत प्रमुख स्वामी महाराज की प्रेरणा से बोचासनवासी  श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) ने किया है.

11,000 कारीगरों और हज़ारों बीएपीएस स्वयंसेवकों के विराट धार्मिक प्रयासों से केवल पांच वर्ष में इसका निर्माण हुआ है । प्रमुख स्वामी महाराज ने 2005 में तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर अब्दुल कलाम,प्रधानमंत्री मनमोहन सिहजी की उपस्थिति में इसका लोकार्पण किया.

यमुना नदी के किनारे स्थित इस मंदिर के निर्माण में राजस्थान के गुलाबी रेतीले पत्थर और इटली के करारा संगमरमर का इस्तेमाल किया गया है। इस मंदिर में नौ गुंबद, 234 खंभे और 20 हजार से ज्यादा मूर्तियां हैं।

akshardham mandir 15
akshardham mandir 15

 

दिल्ली स्थित अक्षरधाम मंदिर 86342 वर्ग फुट परिसर में फैला है। यह 356 फुट लंबा 316 फुट चौड़ा तथा 141 फुट ऊंचा है। गिनीज बुक की तरफ से माइकल विटी ने कहा था की हमें अक्षरधाम की व्यापक वास्तुशिल्प योजना का अध्ययन तथा अन्य मंदिर परिसरों से उसकी तुलना परिसर का दौरा और निरीक्षण करने में तीन माह का समय लगा और उसके बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे कि मंदिर गिनीज बुक में शामिल किए जाने का अधिकारी है। यह पहला मौक़ा है जब गिनीज़ बुक ने अपने विशाल धार्मिक स्थलों की सूची में किसी हिन्दू मंदिर को मान्यता प्रदान की है।

भारत में इस समय प्राचीन और नवीन ऐसी कई इमारतें और वास्तु कला के अनोखे अजूबे हैं जिन्हें दुनिया भर में प्रसिद्धि हासिल है. लालकिला, इंडिया गेट, केरल के मंदिर, सूर्य मंदिर, ताजमहल, अक्षरधाम मंदिर आदि ने ना सिर्फ भारत की सांस्कृतिक विरासत को हरा भरा किया बल्कि इससे देश में वास्तु कला और भवन निर्माण कला को भी एक शिखर तक पहुंचाया है.

akshardham98
akshardham98

 

यह इमारत दुनिया की सबसे अजीब इमारतों में इसलिए भी गिनी जाती है क्यूंकि पूरी इमारत में कहीं भी कंक्रीट या स्टील का इस्तेमाल नहीं हुआ है. इसमें बस गुलाबी बलुआ पत्थर लगे हैं. यह तीन हजार टन पत्थरों से निर्मित है.यह हमारी हजारो वर्ष पुरानी वास्तुकला से निर्मित है.

अक्सर अक्षरधाम जाने वाले आम दर्शक मंदिर दर्शन करके बाहर से ही घूम कर आ जाते हैं. वह मंदिर के अंदर नौका यात्रा और सिनेमा का मजा लेना नहीं चाहते क्यूंकि टिकट का मूल्य उन्हें फिजूलखर्ची लगती है. पर सबको समझना चाहिए कि इतनी बड़ी इमारत के रखरखाव के लिए अगर आपको कुछ् रुपयों का मूल्य चुकाना पड़े तो कोई बड़ी बात भी नहीं. इस मामले में दिल्ली सरकार का स्कूली बच्चों को अक्षरधाम की यात्रा करवाने का फैसला बहुत ही अच्छा है जिससे बच्चे अपनी संस्कृति से रूबरू हो सकें.

अक्षरधाममंदिर (Akshardham Mandir) मात्र मंदिर ही नहीं बल्कि देश की विभिन्न संस्कृतियों का ऐसा बेजोड संगम है जहां पर भारत की 10 हजार साल पुरानी रहस्यमय सांस्कृतिक धरोहर मौजूद है. यह विश्व का पहला ऐसा हिंदू मंदिर है जिसका प्रताप इतने कम समय में विश्व में फैला है

परिसर में प्रवेश: निःशुल्क | कोई टिकट नहीं
मंदिर एवं बागीचे निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

प्रदर्शनी का शुल्क है  

अक्षरधाम मंदिर
भगवान स्वामीनारायण को समर्पित एक पारंपरिक मंदिर भारत की प्राचीन कला, संस्कृति और शिल्पकला की सुंदरता और आध्यात्मिकता की झलक प्रस्तुत करता है।

akshardham15 http://akshardham.com/

नीलकण्ठ वर्णी अभिषेक
एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक परंपरा, जिसमें वैश्विक शांति और व्यक्ति, परिवार और मित्रों के लिए अनवरत शांति की प्रार्थनाएं की जाती हैं जिसके लिए भारत की 151 पवित्र नदियों, झीलों और तालाबों के पानी का उपयोग किया जाता है।

प्रदर्शनियां

http://akshardham.com/

हॉल 1 – हॉल ऑफ वैल्यूज़ (50 मिनट)
अहिंसा, ईमानदारी और आध्यात्मिकता का उल्लेख करने वाली फिल्मों और रोबोटिक शो के माध्यम से चिरस्थायी मानव मूल्यों का अनुभव।

http://akshardham.com/

हॉल 2 – विशाल पर्दे पर फिल्म (40 मिनट)
नीलकण्ठ नामक एक ग्यारह वर्षीय योगी की अविश्वसनीय कथा के माध्यम से भारत की जानकारी लें, जिसमें भारतीय रीति-रिवाज़ों को संस्कृति और आध्यात्मिकता के माध्यम से जीवन-दर्शन में उतारा गया है, इसकी कला और शिल्पकला का सौंदर्य तथा अविस्मरणीय दृश्यावलियों, ध्वनियों और इसके प्रेरक पर्वों की शक्ति का अनुभव करें।

http://akshardham.com/

हॉल 3 – कल्चरल बोट राइड (15 मिनट)
भारत की शानदार विरासत के 10,000 वर्षों का सफ़र कराती है। भारत के ऋषियों-वैज्ञानिकों की खोजों और आविष्कारों की जानकारी लें, विश्व का प्रथम विश्वविद्यालय तक्षशिला देखें, अजंता-एलौरा की गुफाओं से होकर जाएं और प्राचीन काल से ही मानवता के प्रति भारत के योगदान की जानकारी लें।

akshardham_garden_banner

गार्डन ऑफ इंडिया
साठ एकड़ के हरे-भरे लॉन, बाग और कांस्य की उत्कृष्ट प्रतिमा, भारत के उन बाल-वीरों, वीर योद्धाओं, राष्ट्रीय देशभक्तों और महान महिला विभूतियों का सम्मान किया गया है, जो मूल्यों और चरित्र के प्रेरणास्रोत रहे हैं।

akshardham_yogihridaykamal

लोटस गार्डन
कमल के आकार का एक बागीचा उस आध्यात्मिकता का आभास देता है, जो दर्शनशास्त्रियों, वैज्ञानिकों और लीडरों द्वारा व्यक्त की जाती है।

akshardham65

संगीतमय फव्वारा – सहजआनंद वोटर शो (सूर्योदय के बाद सायंकाल में 30 मिनिट )
दुनिया के बहेतरिन वोटर शो में से एक है यह अदभुत वोटर शो जो आप को एक नइ अनुभूति कराएगा उसकी अल्प झलक देखिये इस वीडियो के मध्यम से.

वीडियो

कहां स्थित है:

राष्ट्रीय राजमार्ग 24 पर, अक्षरधाम सेतु फोन: 22016688, 22026688 

नज़दीकी मेट्रो स्टेशन: अक्षरधाम

समय : प्रथम प्रवेश: प्रातः 9:30 बजे

अंतिम प्रवेश: सायं 6:30 बजे

अवकाश के दिन: सोमवार को मेंटेनन्स के लिए पूरा परिसर बंध रहता है 

परिसर में प्रवेश: निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

प्रदर्शनी के टिकट: प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक

परिसर में प्रवेश: निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

प्रदर्शनी: शुल्क | टिकट

व्यस्क : 170

वरिष्ठ नागरिक : 125

बच्चा (4-11 वर्ष) : 100

बच्चा (4 वर्ष से कम) : निःशुल्क

संगीतमय फव्वारा: शुल्क | टिकट

व्यस्क : 80

वरिष्ठ नागरिक : 80

बच्चा (4-11 वर्ष) : 50

बच्चा (4 वर्ष से कम) : निःशुल्क

अवकाश के दिन: सोमवार

फोटोग्राफी: अनुमति नहीं है

मोबाइल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स: अनुमति नहीं है (अमानती सामानघर उपलब्ध है)

अवकाश के दिन: सोमवार

परिसर में प्रवेश – निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

समय

प्रथम प्रवेश: प्रातः 9:30 बजे

अंतिम प्रवेश: सायं 6:30 बजे

प्रदर्शनी समय: प्रातः 10:00 बजे से 5:30 बजे

प्रवेश

परिसर में प्रवेश: निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

मंदिर एवं बागीचे निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

प्रदर्शनी एवं संगीतमय फव्वारा शुल्क | टिकट

अभिषेक दर्शन: निःशुल्क | कोई टिकट नहीं

अभिषेक पूजा: शुल्क | टिकट

टिकट शुल्क

केवल प्रदर्शनी हेतु

यस्क (12 वर्ष एवं अधिक) रु. 170

वरिष्ठ नागरिक (65 वर्ष एवं अधिक) रु. 125

बच्चा (4 से 11 वर्ष) रु. 100

बच्चा (4 वर्ष से कम) निःशुल्क

केवल संगीतमय फव्वारा हेतु:

वयस्क (12 वर्ष एवं अधिक) रु. 30

वरिष्ठ नागरिक (65 वर्ष एवं अधिक) रु. 30

बच्चा (4 से 11 वर्ष) रु. 2

बच्चा (4 वर्ष से कम) Free

सुविधाएं:

पार्किंग: वाहन के प्रकार के अनुसार दरें

अमानती समानघर: मालिक के जोखिम पर डिपॉजिट (निःशुल्क)

फोटो बूथ: यादगार हेतु मुद्रित फोटोग्राफ़ (शुल्क पर)

व्हीलचेयर: रिफंडेबल डिपॉजिट – रु. 100

फीड कोर्ट: भोजन, स्नेक्स एवं पेय-पदार्थ (केवल 100% शाकाहारी)

पुस्तक एवं गिफ्ट सेंटर: प्रकाशन, स्मृति-चिह्न एवं गिफ्ट आइटम

ड्रेस कोड:

वांछनीय – कंधे और घुटने ढके हों

वापस की जाने वाली रु. 100 जमाराशि दिए जाने पर- ढकने के लिए कपड़े की व्यवस्था है

संरक्षा एवं सुरक्षा: * अमानती समानघर सुविधा उपलब्ध है (पार्किंग स्थल पर)

इनकी अनुमति नहीं है:

सभी इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं (मोबाइल, कैमरा, पैन ड्राइव, हैंड्स-फ्री इत्यादि)

सभी तरह के बैग

पर्स (कंधे पर टांगे जाने वाले / हाथ में लटकाए जाने वाले)

खाद्य एवं पेय पदार्थ

खिलौने

तम्बाकू एवं नशीले पदार्थ

समस्त व्यक्तिगत वस्तुएं

इनकी अनुमति है:

जूते

बैल्ट

वॉलेट

लेडीज़ पर्स (हाथ वाले)

ज्वैलरी

पासपोर्ट

छोटे बच्चों के लिए खाद्य पदार्थ

इन पर कड़ा प्रतिबंध है:

धूम्रपान, मद्यपान एवं नशीली वस्तुएं

तम्बाकू संबंधी उत्पाद

अभद्र व्यवहार एवं भाषा

पालतू जानवर

दावामुक्ति:

प्रवेश का अधिकार और पूर्व सूचना के बिना कार्यक्रम में किसी भी परिवर्तन का अधिकार प्रबंधन को है। कृपया सुरक्षा स्टाफ से सहयोग करें।

अधिक जानकारी के लिए akshardham.com पर देखे