गुजरात में जगह जगह CM का पुतला जलाया जा रहा है

anandi putala

Gujju Post

सूरत। वराछा इलाके में सीमाडा राज गार्डन के पास बुधवार देर रात मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल का पुतला जलाया गया। मुख्यमंत्री बिना जांच हुए खुद ही अपनी बेटी को क्लीन चिट दे रही है और दूसरो को फलाना की कठपुतली ढिकाना का हाथ बता रही है. वो खुद भ्रस्टाचार में डूबी है जबतक ऊपर से आदेश ना आये तबतक कुछ नहीं कर पाती और वो  हार्दिक पटेल को कठपुतली बता रही है, इस तरह की बाते करके युवको ने मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया

सूरत से पहेले महेसाणा और अहमदाबाद में भी इसी तरह से मुख्यमंत्री का पुतला जलाया गया,

समाधान की बात, तो फिर कठपुतली क्यों कहा?
पाटीदार आंदोलन पर गुजरात सरकार जब समाधान की बात कर रही है तो फिर आनंदीबेन ने दिल्ली में हार्दिक पटेल को कांग्रेस की कठपुतली क्यों कहा। इसी के चलते पाटीदार सीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

पिछले हप्ते पाटीदार आंदोलन करने वाले दो लोगो ने आत्महत्या कर ली फिर भी मुख्यमंत्री और सरकार इस तरह के बयानो से समाज पर नमक छिड़कने का काम कर रही है

सीएम के खिलाफ नारेबाजी:
गौरतलब है हाल ही में आनंदीबेन ने दिल्ली के एक कार्यक्रम में हार्दिक को कांग्रेस के हाथों की कठपुतली कहा था। इसके विरोध में राज गार्डन के पास बड़ी संख्या में पाटीदार युवक जमा हुए। युवकों ने सीएम के खिलाफ नारेबाजी करते हुए ‘पाटीदार पटेल आरक्षण आंदोलन’ को उग्र बनाने की भी धमकी दी। और कहा मुख्यमंत्री खुद मोम का पुतला है वो अपनी बेटी के अलावा और किसी का भला नहीं कर रही और करने के आदेश ऊपर से ना आये तबतक खुद किसी के लिए काम नहीं करती

कठपुतली कौन है, यह जनता तय करेगी:
सूरत पास के कन्वीनर निखिल सवाणी ने बताया कि पुतला दहन के संबंध में हमें पुख्ता जानकारी नहीं है, लेकिन हार्दिक या पाटीदारों के खिलाफ उटपटांग बोलने वालों को पाटीदार माफ नहीं करेंगे। आने वाले समय में पाटीदार इसका जवाब बुलेट से न देकर बैलेट से देंगे। कठपुतली कौन है, यह तो जनता ही तय करेगी।

पूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए Next Button क्लिक करें