IPL से थोड़ी फुर्सत निकाल के सूखे से झुज रहे इन लोगो की तरफ भी देखिएगा

सूखे के संकट से निपटने के लिए सरकारी राहत का भी जवाब नहीं पानी का टेंकर गाव में आता है 60 फुट की गहराई के कुवे में डालता है फिर लोग उस कुवे में उतर कर पानी भर के ले जाते है. अबतक 2 लोगोकी मौत हो गई और कई लोगो की हड्डिया टूट चुकी है.

पानी का संकट स्थायी होता जा रहा है। समाधान के किस्से भी मौजूद हैं इस देश में मगर वो संकट के अनुपात में बहुत छोटे हैं। दरअसल हम इसे मौसम का संकट समझ कर नज़रअंदाज़ कर देते हैं।

29 में से 12 राज्य सूखे की चपेट में है। राहत कार्य के नाम पर जो राशि जारी होती है वो दिल्ली से चलते वक्त सैकड़ों करोड़ों में सुनाई देती है और किसान के हाथ में पहुंचते पहुंचते सौ-दो सौ रुपये की हो जाती है। किसान जितना सरकार से लाचार है उतना समाज से भी और इन दोनों से ज्यादा अपने आप से भी। उसके लिए सबसे बड़ी तकलीफ है कि कोई उसे सुन नहीं रहा है।

देखिये और सुनिए ग्राउंड रिपोर्ट