नालंदा यूनिवर्सिटी की दबी हुई कहानी

nalanda2

Gujju Post

छठी शताब्दी में हिंदुस्तान सोने की चिडि़या कहलाता था।

भारत के वैभव के बारे में सुनकर यहां बाहर से आक्रमणकारी आते रहते थे। इन्हीं में से एक था- तुर्की का शासक इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी। उस समय हिंदुस्तान पर खिलजी का ही राज था। नालंदा यूनिवर्सिटी तब राजगीर का एक उपनगर हुआ करती थी। यह राजगीर से पटना को जोड़ने वाली रोड पर स्थित है। यहां पढ़ने वाले ज्यादातर स्टूडेंट्स विदेशी थे। उस वक्त यहां 10 हजार छात्र पढ़ते थे, जिन्हें 2 हजार शिक्षक गाइड करते थे।

पूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए Next Button क्लिक करें

Prev2 of 8Next