सेना के जवानो को बुलेटप्रूफ जेकेट क्यों नहीं दे रहा रक्षा मंत्रालय ?

नई दिल्ली: भारतीय सेना द्वारा 50 हजार जीवन रक्षक बुलेटप्रूफ जैकेटों की खरीद से जुड़े 120 करोड़ रुपये के कॉन्‍ट्रैक्‍ट को अंजाम तक नहीं पहुंचा पाने के कारण अब सेना के अधिकारियों और जवानों को अपनी जरूरत से आधे से भी कम बुलेटप्रूफ जैकेटों से काम चलाना पड़ेगा। आपको बता दें कि सेना को करीब 3.5 लाख बुलेटप्रूफ जैकेटों की आवश्‍यकता है और इसमें भारी कमी को साल 2009 में ही जाहिर कर दिया गया था।

सूत्रों से पता चला है कि रक्षा मंत्रालय ने दो भारतीय कंपनियों को चिन्हित कर और उनके साथ कीमत भी तय कर ली थी ताकि 50 हजार बुलेटप्रूफ जैकेटों की आपात अंतरिम खरीद की जा सके, लेकिन करीब 5 महीने बीत जाने के बाद भी कॉन्‍ट्रैक्‍ट साइन नहीं हो सके।

पूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए Next Button क्लिक करें

Prev1 of 5Next