तमिलनाडु का प्राचीन और मशहूर शहर – कांचीपुरम

www.tourmyindia.com

Gujju Post

http://www.tourmyindia.com[/caption%5D

कांचीपुरम का अर्थ

कांची का अर्थ ब्रह्मा, आंची का अर्थ पूजा और पुरम का अर्थ शहर होता है यानी ब्रह्मा को पूजने वाला पवित्र स्थान।

कांचीपुरम ईसा की आरम्भिक शताब्दियों में महत्त्वपूर्ण नगर था।

सम्भवत: यह दक्षिण भारत का ही नहीं बल्कि तमिलनाडु का सबसे बड़ा केन्द्र था। बुद्धघोष के समकालीन प्रसिद्ध भाष्यकार धर्मपाल का जन्म स्थान यहीं था, इससे अनुमान किया जाता है कि यह बौद्धधर्मीय जीवन का केन्द्र था।

यहाँ के सुन्दरतम मन्दिरों की परम्परा इस बात को प्रमाणित करती है कि यह स्थान दक्षिण भारत के धार्मिक क्रियाकलाप का अनेकों शताब्दियों तक केन्द्र रहा है। कांचीपुरम 7वीं शताब्दी से लेकर 9वीं शताब्दी में पल्लव साम्राज्य का ऐतिहासिक शहर व राजधानी हुआ करती थी। छ्ठी शताब्दी में पल्लवों के संरक्षण से प्रारम्भ कर पन्द्रहवीं एवं सोलहवीं शताब्दी तक विजयनगर के राजाओं के संरक्षणकाल के मध्य 1000 वर्ष के द्रविड़ मन्दिर शिल्प के विकास को यहाँ एक ही स्थान पर देखा जा सकता है। ‘कैलाशनाथार मंदिर’ इस कला के चरमोत्कर्ष का उदाहरण है। एक दशाब्दी पीछे का बना ‘वैकुण्ठ पेरुमल’ इस कला के सौष्ठव का सूचक है। उपयुक्त दोनों मन्दिर पल्लव नृपों के शिल्पकला प्रेम के उत्कृष्ट उदाहरण हैं।

पूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए Next Button क्लिक करें
Prev1 of 6Next