राजस्थान का नया उभरता हुया सितारा इसका गाना सुनके आप के रोमटे खड़े हो जायेंगे

rajsthan india

राजस्थान में संगीत अलग-अलग जातियों के हिसाब से है
-जिसमें ये जातियां आती है -लांगा ,सपेरा , मांगणीयरभोपा और जोगी।

-यहां संगीतकारों के दो परम्परागत कक्षाएं है एक लांगा और दूसरी मांगणीयर।

-राजस्थान में पारम्परिक संगीत में महिलाओं का गाना जो बहुत प्रसिद्ध है जो कि (पणीहारी) नाम से है।
-इनके अलावा विभिन्न जातियों के संगीतकार अलग-अलग तरीकों से गायन करते हैं।

-सपेरा बीन बजाकर सांप को नचाता है तो भोपा जो फड़ में गायन करता है।

-राजस्थान के संगीत में लोकदेवताओं पर भी काफी गीत गाये गए है।

-इनके अलावा विभिन्न जातियों के लोग अलग-अलग तरीक़ों से गायन करते हैं। सपेरा बीन बजाके सांप को नचाता है तो भोपा फड़ में गायन करते हैं।
-राजस्थान के संगीत में लोकदेवाताओ पर भी काफी गायन होता है जिसमें मुख्य रूप से पाबूजी ,बाबा रामदेव जी ,तेजाजी इत्यादि लोकदेवाताओं पर भजन गाये जाते है।

विडियो